Thursday, April 9, 2009

याद

एक अधियारी रात में,
देखा अनंत आकाश के वक्ष पर,
झिलमिलाता हुआ एक तारा।

और मुझे आभास हुआ जैसे-
तारे की झिलमिलाती किरणों के मध्य,
आप झाँक रही हो।
उन्हीं वात्सल्य
और प्रेम भरी दृष्टि से निहारती,
जैसे निहारती थीं मुझे इस धरा पर,
और देती थीं मुझे प्रेरणा,
जगाती थीं आशा,
कि एक दिन,
में भी खड़ा होऊंगा,
सब जगत के सामने आपके समान,
और प्रकाशित करूँगा इस धरा को,
कीर्ति की किरणें फैलाते हुए।

स्मृतियों में खोये हुए,
वह रात तो बीत गई,
लेकिन इश्वर से मांगता हूँ कि-
ऐसी रात प्रतिदिन आए,
जिसमे आपके स्नेह का स्पर्श,
मेरी आत्मा कर सके और,
नई आशा और विश्वास,
मुझ में जगा सके।

जब जब मेरी स्मृति में उभरते हैं तुम्हारे प्रेरणामय शब्द,
कि मैं लिखता रहूँ,
आगे बढ़ता रहूँ,
तब तब हृदय पीड़ा से भर जाता है,
यह सोचकर कि,
तुमने यह भी देखा कि,
में कैसा लिखता हूँ,
क्या लिखता हूँ ,
और क्यूँ लिखता हूँ,
और अब में,
दिखा पाऊंगा,
सुना पाऊंगा,
अपने हृदय में उमड़ते,
भावों के फूल,
तुम्हारे चरणों में चढ़ा पाऊंगा।

पर अनंत आकाश के,
वक्ष को चीरकर,
अपनी वात्सल्यपूर्ण दृष्टि से,
आशीष कि वर्षा करती रहना।

दृष्टि सदा रखना मुझ पर जिससे,
ग़लत पथ पर बढ़ने पाऊं मैं।
हर कदम पर साथ रहना मेरे जिससे,
हर बुराई से लड़ सकूँ मैं।

मन दुःख से भर जाता है,
यह सोचकर,
इतना समय आप यहाँ रहीं,
लेकिन कुछ भी कर सका मैं।
सब कुछ तो आप देकर,
चली गयीं,
एक बार भी,
शुक्रिया कर सका मैं।

अन्तिम बार जब देखा तो,
तुम्हारे मुख से कुछ सुन सका मैं,
अपने मन कि कह सका मैं,
आपने कुछ बताया,
कुछ सुनाया,
बस चुपचाप से,
जिस ओर से आए थे,
उस ओर चुपचाप चल दिए।

लेकिन अन्तिम बार कन्धा देने का जो,
सुख अनुभव किया वह,
सदा स्मृति मैं जीवित रहेगा,
और समय का चक्र ,
उसे मिटा सकेगा,
भुला सकेगा।

14 comments:

  1. achchhi rachana hai.Prabhavshali ban padi hai.
    Navnit Nirav

    ReplyDelete
  2. blog jagat men swagat, sarahniya rachna ke liye badhai.

    ReplyDelete
  3. स्पष्ट नहीं किया आपने परन्तु माँ को चरनार्बिंदु को समर्पित रचना प्रतीत होती है..
    अत्यंत प्रभावशाली एवं श्रद्धापूर्ण कृति है.... बधाइयाँ
    -मोजो
    http://mojowrites.wordpress.com

    ReplyDelete
  4. स्वागत है....शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. अनिमेश जी,
    अच्छी कविता के लिये बधाई!
    अमित।
    पुनश्च: यदि फॉन्ट बडा़ कर दें तो पढ़ने में सुविधा होगी।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर व मार्मिक रचना है।संभव है यह मां के प्रति समर्पित एक रचना है।बधाई स्वीकारें।।

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर ..,
    पृथ्वी पर यदि कोई साक्षात देव है तो वोः माँ है ..,
    माँ कि सेवा, ईश्वर कि सेवा से कम नहीं .. मक्
    मेरी शुभकामनाए ,खूब लिखिए बेहतर लिखिए .. मक्

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर व मार्मिक रचना ......

    कुछ नया करो , जिसमे खुशी मिले । काम बहुत छोटा ही क्यों न हो । इश्वर है न , वह निर्णय लेगा । तो फ़िर लोगो की बातों पर क्यों जाते हो ?वो तुम्हे खुशी नही दे सकते ।

    ReplyDelete
  10. dear one,You have great word power because its not a romance,it is coming from within.Most probably you have lost someone very near and dear recently.GOD prove me wrong but the feeling is very painful.We all are with you in this crucial time.I feel that time is the GREATEST healer and with your qualities of yr head and heart you will cope with all sorts of trouble,
    .Feel free to share anything ,we are not mere bloggers ,we are men from different quarters of life with vast experience.We are with you .
    My contact no is 9425898136.Your writing is very imaginative and powerful.Pl.keep it up.
    with love
    dr.bhoopendra

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढिया लिखा है आपने , इसी तरह उर्जा के साथ लिखते रहे ।

    बहुत धन्यवाद
    मयूर
    अपनी अपनी डगर

    ReplyDelete
  13. maa ke liye har shabd chota aur har bhavna masoom aashaon ka ekmatra thikana falak keep it up

    ReplyDelete